Volume 21 (November - December , 2018)

Privious

Next Volume

S. No.
Manuscript Title
Page No.
Download PDF
Language
1
सामाजिक उत्थान की दिशा में वैदिक वांगमय की उपादेयता
डॉ. प्रदीप कुमार दीक्षित
01-03
Sanskrit
2
ईर्ष्या और द्वेष में डूबा आज का मानव
डॉ.गटुलाल पाटीदार , जानी पाटीदार
04-07
Sanskrit
3
अद्वैतवेदान्तानुसारेण गुरोः स्वरूपं तन्महत्वं च
अरुणा
08-10
Sanskrit
4
ज्यतिश्शस्त्रे बृहत्संहिताटीकायाः उत्पलपरिमलाख्यायाः प्रशस्तिः
V.S ANNAPOORNESWARI
11-12
Sanskrit
5
युधिष्टिरविजयकाव्ये सामाजिकांशाः
Sravanthi.Ch
13-14
Sanskrit
6
समुद्रशत के रसविचारः
P.K.V.Sreekanth
15-17
Sanskrit
7
समुद्रशतके छन्दोविचारः
P.KrishnaVasu Sreekanth
18-20
Sanskrit
8
भारतीय दर्शन में ईश्वर-विवेचन: आदि शंकराचार्य के विशेष सन्दर्भ में
संगीता कुमारी खराड़ी
21-25
Sanskrit
9
वरं कन्यानाटके अलंकारविचारः
डि.शिवप्रसाद बाबु
26-28
Sanskrit
10
आधुनिक संस्कृत साहित्य लघुकाव्येषु आचार्य पुल्लेल श्रीरामचन्द्रदु वर्याणां योगदानम्
प्रभल शिवकामेश्वरी
29-30
Sanskrit
11
समाज में नारी की स्थिति - एक विवेचन
प्रकृति
31-33
Hindi
12
श्री श्रीरामचन्द्रदु महोदय विरचित “समसामयिकम” इति लघुकाव्य समीक्षा
प्रभल शिवकामेश्वरी
34-35
Sanskrit
13
नरेंद्र मोहन की कविताओं में मानवाधिकार (‘शर्मिला इरोम तथा अन्य कविताएँ’) के विशेष सन्दर्भ में
Dr.Lalimol Varghese P.
36-38
Hindi
14
अर्हन्नये लोकस्वरूपम्
डॉ.कुलदीपकुमारः
39-41
Sanskrit
15
समकालीन कविताओं में वर्तमान नारी चरित्र का चित्रण
डॉ. धन्या. के. एम
42-43
Hindi
16
The Upanisadic concept of Karma
Dr. Neena T S
44-45
English
17
सा विद्या या विमुक्तये
पुष्पा भोजः
46-48
Sanskrit
18
Mathematics in Sanskrit Literature
V.Ramesh Babu
49-51
English

 

National Journal of Hindi & Sanskrit Research © 2015
             
web counter
Hit Counter