सामाजिक उत्थान की दिशा में वैदिक वांगमय की उपादेयता